संकर किस्मों की बुवाई होने वाले से लाभ और उनकी भारतीय कृषि में उपयोगिता

संकर किस्मों की बुवाई होने वाले से लाभ और उनकी भारतीय कृषि में उपयोगिता

भारत वर्ष एक कृषि प्रधान देश है. आज भी यहाँ की कुल आबादी का लगभग 60 प्रतिशत जनसंख्या गांवों में रहती है, जिसका मुख्य व्यवसाय कृषि है. वर्तमान में निरन्तर प्रति व्यक्ति भूमि की उपलब्धता दिन प्रतिदिन घटती…

Read More
सरकारी कृषि योजनाओं के माध्यम से किसानों का विकास

सरकारी कृषि योजनाओं के माध्यम से किसानों का विकास

‘‘भारत गांवों की भूमि है और किसान देश की आत्मा हैं।‘‘ भारतीय किसान भारतीय अर्थव्यवस्था की रीढ़ हैं, लेकिन उनका जीवन दिन-प्रतिदिन और अधिक कठिन होता जा रहा है। किसान को ‘‘अन्नदाता‘‘ भी कहा जाता है। एक सरकारी आंकड़े…

Read More
पराली बस बहाना है, असली मकसद नाकामयाबी को छुपाना है…

पराली बस बहाना है, असली मकसद नाकामयाबी को छुपाना है…

दिल्ली की हवा जानलेवा स्तर पर प्रदूषित हो गई है. वायु प्रदूषण की भयानक स्थिति के कारण यहां सांस लेना एक दिन में 25 सिगरेट पीने के समान हो गया है. इस समस्या का किसी…

Read More
अगले 10 सालों में 40 प्रतिशत लोग पानी के लिए तरसेंगे

अगले 10 सालों में 40 प्रतिशत लोग पानी के लिए तरसेंगे

 आज भारत में जलस्तर का क्या हाल है ये सबको पता है. लेकिन कोई ये नहीं जानता था कि मुसीबत इतनी जल्दी आ जाएगी. ये कोई हवा में बनाई गई रिपोर्ट नहीं है. विश्वभर के…

Read More
विकास की अकुलाहट व आकंक्षाएं  बदल रहीं गांवों की तस्वीर

विकास की अकुलाहट व आकंक्षाएं बदल रहीं गांवों की तस्वीर

अवधेश कुमार एक देश के रुप में भारत तभी सशक्त होगा जब यहां के गांव मजबूत आर्थिक आधार पर खड़े हों. यह ऐसी अवधारणा है जिससे किसी की असहमति नहीं. गांवों में अभी भी देश…

Read More
उभर रहे हैं भारतीय गांव

उभर रहे हैं भारतीय गांव

कृषि वर्ल्ड डेस्क वर्ष 2018 में देश के ग्रामीण और छोटे कस्बों में उपभोक्ता सामानों का बाजार लगभग 20 अरब अमेरिकी डॉलर का हो गया तथा वर्ष 2025 तक यह आकंड़ा 100 अरब अमेरिकी डालर…

Read More