मेघालय के सूअर पालकों को मिलेगा ब्याज मुक्त ऋणः कोनराड के संगमा

मेघालय के सूअर पालकों को मिलेगा ब्याज मुक्त ऋणः कोनराड के संगमा

कृषि वर्ल्ड, दिल्ली ब्यूरो नई दिल्ली स्थित राष्ट्रीय सहकारी विकास निगम के कार्यालय में भारत के सबसे बड़े सूअर पालन परियोजना की लांचिंग के अवसर पर केंद्रीय कृषि व किसान कल्याण राज्य मंत्री कैलाश चौधरी…

Read More
किसान गोमूत्र और गोबर से होंगे मालामाल

किसान गोमूत्र और गोबर से होंगे मालामाल

हिमाचल प्रदेश के किसानों को मालामाल होने का सुनहरा अवसर मिला है. राज्य सरकार ने किसानों के लिए एक योजना का चलाई है, जिससे किसान अपनी आय को दोगुनी कर सकते है. दरअसल, सरकार ने…

Read More
ग्वार फसल के मुख्य रोग, उनकी पहचान और नियंत्रण

ग्वार फसल के मुख्य रोग, उनकी पहचान और नियंत्रण

ग्वार फसल में विभिन्न प्रकार के रोगों का प्रकोप होता है. जिससे फसल की गुणवत्ता और पैदावार पर असर पड़ता है. इन रोगों पर रोकथाम करना बहुत जरूरी होता है, ताकि फसल को नुकसान न…

Read More
पाले एवं सर्दी से फसलों को बचाने का तरीका

पाले एवं सर्दी से फसलों को बचाने का तरीका

सर्दी के मौसम में उगाई जानें वाली अधिकांश फसलें सर्दियों में पड़नें वाले पाले एवं सर्दी से प्रभावित होती है. सब्जी और फल पाले प्रति अधिक संबेदनशील होते है. पाला पड़नें से फसलों को आंशिक…

Read More
गेहूं की फसल में लगने वाले रोग एवं उनकी रोकथाम का तरीका

गेहूं की फसल में लगने वाले रोग एवं उनकी रोकथाम का तरीका

गेहूं की फसल का पैदावार कितना होगा वो सबकुछ खाद एवं उर्वरक की मात्रा पर निर्भर करता है. गेहूं में हरी खाद, जैविक खाद एवं रासायनिक खाद का प्रयोग किया जाता है. खाद एवं उर्वरक…

Read More
कुपोषण दूर करने कृषि विज्ञान केन्द्र दे रहे है योगदान

कुपोषण दूर करने कृषि विज्ञान केन्द्र दे रहे है योगदान

कृषि विज्ञान केन्द्र रायपुर एवं जय हरितिमा महिला समिति, इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, रायपुर के संयुक्त तत्वावधान में न्यूट्री स्मार्ट कार्यक्रम अंतर्गत एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला का विषय ‘‘आहार मंे विविधता…

Read More
विकास की अकुलाहट व आकंक्षाएं  बदल रहीं गांवों की तस्वीर

विकास की अकुलाहट व आकंक्षाएं बदल रहीं गांवों की तस्वीर

अवधेश कुमार एक देश के रुप में भारत तभी सशक्त होगा जब यहां के गांव मजबूत आर्थिक आधार पर खड़े हों. यह ऐसी अवधारणा है जिससे किसी की असहमति नहीं. गांवों में अभी भी देश…

Read More